रियल एक्शन स्टार विशाल सिंह का जादू देखने उमड़ी भीड़ पर पुलिस की लाठी

hathiyar-poster3
पिछले शुक्रवार को बिहार में प्रदर्शित हुई भोजपुरी फिल्म ‘हथियार’ में रियल एक्शन स्टार विशाल सिंह का जादू देखने के लिये लोगों की भारी भीड़ उमड़ रही है. लोगों को यकीन नहीं आ रहा है कि उनके बीच का गोरखपुर का एक लड़का बिना किसी वायर के इतना खतरनाक एक्शन कर रहा है.

जी हां यह पहला रियल एक्शन स्टार हैं विशाल सिंह. विशाल सिंह की खास बात यह है कि वे बिना किसी केबल या वायर के जबरदस्त स्टंट करते हैं और स्टंट करते समय हवा में खुब उड़ान भरकर खलनायकों के दांत खट्टे कर देते हैं. हवा मेंं वे इतना खतरनाक खतरनाक स्टंट करते हैं कि देखने वाला दंग रह जाता है.

हर जगह हाऊसफुल का बोर्ड लटका

जब किसी एक्शन स्टार के एक्शन की निर्देशक, साथी कलाकार और वितरक तथा एक्शन डायरेक्टर तारीफ करें तो जाहिर सी बात है कि दर्शकों में भी उस एक्शन स्टार के एक्शन को देखने की ललक बढ़ेगी ही. पटना में विशाल सिंह के एक्शन से भरी फिल्म हथियार को देखने आये दर्शकों पर लाठिया चली. पटना के वीणा सिनेमाहाल में लोगों का भारी हुजूम सिनेमाघर में उमड़ा और टिकट कम पड़ गये. इसके बाद मची भगदड़ को काबू करने के लिए पुलिस को लाठी चलानी पड़ गई.

इससे दुखी विशाल सिंह ने अपने समर्थकों को सलाह दी है कि टिकट नहीं मिले तो प्लीज अगले शो में फिल्म देखिये मगर भगदड़ मत मचाईये. मैं भी आपके बीच का ही हूं. आपकी हौसला अफजाई के कारण ही मैं इतना बेहतरीन एक्शन कर पा रहा हूं.

जाने माने भोजपुरी फिल्म वितरक बिट्टू सरदार ने बताया कि विशाल सिंह का एक्शन देखकर ही उन्होंने वितरण अधिकार खरीदा था. साथही इस फिल्म में और भी कई खूबियाँ हैं जो किसी भी सफल फिल्म में होनी चाहिए.

और बिट्टू सरदार का फैसला सही रहा जब हर सिनेमाघर में हाउसफुल का बोर्ड लटक गया.

मूलत: उत्तर प्रदेश के गोरखपुर के रहने वाले विशाल ने फिल्मों में आने से पहले बकायदे स्टंट की ट्रेनिंग ली और बाद में वह मुंबई आए. यहां आने के बाद विशाल सिंह ने काफी संघर्ष किया. इसी बीच उनकी मुलाकात हुई हथियार फिल्म के निर्देशक जगदीश शर्मा से. जगदीश शर्मा को अपनी फिल्म के लिये विराज भट्ट के साथ एक ऐसे स्टार की जरुरत थी जिसका स्टंट में कोई जवाब ना हो और वह लाजबाव हो. जगदीश शर्मा ने विशाल का स्टंट देखा और साथ ही अभिनय छमता भी और तुरंत अपनी फिल्म हथियार के लिये उन्हे साईन कर लिया.


(शशिकांत सिंह)